एक स्वतचे जग …

स्वप्नाच्या पलीकडे

स्वतःचे काही असावे.

अस्तित्वाचे काही

गुणगान नसावे.

प्रत्येक ठिकाणी

थोडी ओळख रहावी.

स्वतच्या जगात

आपली छोटी मोठी नाती असावी.

जगणे काहीसे

सोपेही व्हावेत.

अडचणीला काही

जागाच नसावी.

सोबतीला असावी चार चौघे

काही मित्र राहावेत.

आयुष्य सारे निघत जाते

जगण्याची मज्जा घेत जावी.

रंगो का यह त्योहार आया

आया यह रंगो का त्योहर

मुठ्ठी में खुशिया भर के लाया ।।

अपनो के पास पराया भी लाया

सघे संबंधी जुड़कर आए ।।

खुशियों का यह त्योहार है

खेल मस्ती का दिन लाया ।।

पानी भर भर खूब उड़ाया

ऐसा यह त्योहार आया ।।

रंग बिरंगी रंग की रंगो की

अनोखी छोटीसी मस्ती लाया ।।

छोटे से लेकर बड़े तक

सभी मज्जा लेकर खेले पाए ।।

यह ऐसा त्योहार हर बार आए

हमेशा रिस्तों की बरसात लाए ।।

खूब सारी मस्ती से

रंगो का यह त्योहार मनाया ।।