मां ही मेरी जन्नत हैं ।।

बचपन ही सही है
जैसे घर में है मेरी मां ।।

सपने सारे खुशियों से
मेरे पापा ने सजाए ।।

रोना भी तो बहोत था
हमेशा मेरे पास मेरी मां रहे ।।

दिन है यह शरारतो का
मौज मस्ती भरा हुआ था ।।

खाने की थाली लेकर मैंने
बहुत बार मेरे पीछे दौड़ाया भी तो है ।।

मां तो मां ही है जन्नत भी कम है
पिता की मुझमें बसी हुई जान है ।।

नन्नासा तो मेरा जहान है
मेरे मां पापा से हसी भरा मेरा एक जहा हैं ।।

Advertisement

एक क्षण मौल्यवान

आयुष्याच्या साथीला साथ जोडल्यानंतरचा सहवासिक क्षण..
जेव्हा आपल्या जीवनातील पहिल्यांदा झाल्याला आनंद , आई किंवा वडील झालेला क्षण..
जन्मानंतरचे आई जवळील सुख शांतमय जीवन..
आईचं सांभाळणं आणि तिच्या सभोवतालचे वातावरण संघोपण.
आईच्या जवळ आपलं कुरकुर करणे किंवा आईशी आपला संवाद बोलण्याचा प्रयत्न…
आपण आणि आपले कुटुंब जेव्हा एकत्रित राहणे आणि त्यांच्यातील संतुष्टमय वेळ आणि आपलेपणा..

क्षण हा क्षणांचा

असाच काहीसा राहावा..

सगळे आवडते

परतुनी यावे..

क्षणातील क्षण हे

मौल्यवान जावेत..

प्रत्येकाच्या जवळ

एक आपलासा असावा..

जीवनाच्या सोबतीला

प्रीतीचा हर्ष जाणावा..

जीवनाच्या प्रवासात हातात हात धरणे तो सुद्धा जीवनभरसाठी..
एक क्षण प्रवास आणि मौजमस्ती…
आठवणीतील फोटो पाहण्याचा आनंद आणि उत्सहिकता व रम्यमय आठवण..
थोडेसे मोठ्याजल्यावरची मौजमस्ती..

” माँ ” एक जन्नत

ए जिंदगी तू इतना परेशान ना कर
कुछ गम के यह पल जल्द ही बीत जाएंगे ।।

चंद खुशियों के लिए हमे रुलाया ना कर
छोटिसी है जिंदगी मुझे खुशीसे जीने दे ।।

माँ का यह आंचल जैसे नीम के छाव हो
मुझे यह खुशियों के संग यहां ही रहना है ।।

उम्र यह है छोटीसी मां का मे लाडला हूं
कही बार मैंने मां से मार भी तो खाई है ।।

छोटासा ये जहा छोटासा आसमां
बीत जाए यहां जिंदगी भर का फासला ।।

मां के नाम से खुशियां यहां बसती है
ऐसा यह जन्नत फिर यही मेरी मां मिले ।।

प्यारिसी एक नन्हीं चिड़िया…

हवा बेहती है उसे बेहने दो
मन के रंग दिल से खिलने दो
आजाद है जिंदगी उसे आजाद रहने दो
चिड़िया के जैसे उसे उड़ती हवाओं में उड़ाने दो ।।

पल दो पल की तो बात है
जीने का एक अंदाज सीख लेने दो
उन्ह खुशियों का मोहताज होने का
एक प्यारासा एहसास होने ददो ।।